स्वास्थ्य एवं सुंदरता

उत्तराखंड में आयुष्मान भवः योजना की प्रगति रिपोर्ट से केंद्रीय अपर सचिव संतुष्ट

हर व्यक्ति को मिले योजना का लाभ, ग्राउंड जीरो पर जाकर योजना की हकीकत परखें अधिकारी

देहरादून। भारत सरकार में अपर सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय हेकाली झिमोमी (Ms. Hekali Jhimomi) अपने एक दिवसीय दौरे पर देहरादून पहुंची। जहां उनके द्वारा देहरादून स्वास्थ्य महानिदेषालय में स्थित राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिषन के सभागार में आयुष्मान भवः, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिषन कार्यक्रम तथा यूसैक्स के कार्यक्रमों की समीक्षा की गई।

आयुमान भवः, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिषन कार्यक्रम तथा यूसैक्स के कार्यक्रमों की समीक्षा करते हुए अपर सचिव, स्वास्थ्य हेकाली झिमोमी ने कहा कि आयुष्मान भवः कार्यक्रम के अन्तर्गत आम जन तक सरकारी स्वास्थ्य सेवायें पहुंचाना भारत सरकार का मुख्य उद्देष्य है। उन्होंने सभी कार्यक्रम अधिकारियों को निर्देषित किया कि जहां-जहॉ आयुष्मान मेलों का आयोजन किया जाना है, वहां पर लोगों को ज्यादा से ज्यादा जागरूक किया जाए ताकि अधिक से अधिक लोगों को आयुष्मान कार्यक्रम के अन्तर्गत मिलने वाली आयुष्मान कार्ड, आभा आई कार्ड तथा स्वास्थ्य सम्बंधी अन्य जानकारियां मिल सकें व समय आने पर वह इनका लाभ ले सकें।

कहा कि कार्यक्रम की कार्ययोजना इस प्रकार हो कि इसका ज्यादा से ज्यादा लोगो को लाभ मिल सके। अपर सचिव ने कहा कि क्योंकि यह पहाड़ी राज्य है। इसलिए विषम भौगोलिक परिस्थितियों में भी एक विषेष कार्ययोजना बनाकर आयुष्मान कार्यक्रम को सफल बनाया जाए। कहा कि अंगदान को लेकर भी राज्य में जनजागरूकता कार्यक्रम चलायें जायें ताकि अधिक से अधिक लोग अंगदान का महत्व समझ कर अंगदान का संकल्प लें और जरूरतमंद लोगों की जिंदगी बचाने में आगे आ सकें।

उन्होंने राज्य में डेंगू की रोकथाम को लेकर उठाए जा रहे कदमों की सराहना की गई। विशेष कर हॉटस्पॉट क्षेत्र में चलाए जा रहे डेंगू नियंत्रण महाअभियान को एक नवीन पल के रूप में सराहा गया। अपर सचिव ने कहा कि अग्रिम वर्षों में फ्रंटलाइन वर्कर्स के माध्यम से नियमित तौर पर संचारी रोगों के नियंत्रण रोकथाम एवं जागरूकता के लिए घर-घर जाकर कार्य करने के लिए कार्य योजना बनाई जाए।

स्वास्थ्य सचिव डा. आर राजेश कुमार द्वारा अपर सचिव स्वास्थ्य, नई दिल्ली भारत सरकार को आश्वस्त किया गया कि भारत सरकार द्वारा दिये गये सभी दिशा-निर्देशों का पूर्ण रूप से पालन किया जाएगा। आयुष्मान भवः कार्यक्रम के अन्तर्गत दिये गये निर्देश एवं लक्ष्यों को प्राप्त किया जाएगा। उन्होंने बताया कि राज्य में अंगदान को लेकर आम जनमानस को लगातार प्रेरित किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग के प्रयासों का असर है कि कई लोगों ने राज्य में अंगदान का संकल्प लिया है।

समीक्षा बैठक में राज्य की ओर से स्वाती भदौरिया, मिशन निदेशक एनएचएम,  आशीष श्रीवास्तव मुख्य कार्यकारी अधिकारी, आयुष्मान, डॉ भागीरथी जंगपांगी प्रभारी निदेषक स्वास्थ्य महानिदेशालय, डॉ टीके टम्टा अपर निदेशक स्वास्थ्य महानिदेशालय, डा. अजय कुमार नगरकर अपर परियोजना निदेषक, यूसैक्स, डा. वीएस टोलिया, डा. अमित शुक्ला, डा. राजन अरोडा, डा. पंकज कुमार आदि मौजूद रहे।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share