उत्तराखण्ड

कोविड की तर्ज पर आईडीटीए में बनाया कंट्रोल रूम

डीएम ने सीएमओ को कंट्रोल रूम का दिन में दो बार निरीक्षण करने के निर्देश दिए

देहरादून। डेंगू पर प्रभावी नियंत्रण हेतु जिलाधिकारी सोनिका ने ऋषिपर्णा सभागार में रेखीय विभागों के साथ बैठक कर सम्बन्धित अधिकारियों को दिए आवश्यक निर्देश।

जिलाधिकारी के निर्देश पर कोविड की तर्ज पर आईटीडीए में कन्ट्रोलरूम स्थापित किया गया है। डेंगू से सम्बन्धित किसी भी शिकायत टैस्ट, बैड, प्लेटलेटस, लैब, चिकित्सालय आदि के लिए टोलफ्री नम्बर 18001802525 पर कॉल की जा सकती है।

बैठक के दौरान ही जिलाधिकारी के फोन पर प्रभावित क्षेत्र से नगर निगम द्वारा फागिंग कार्यों में लापरवाही का काल आने पर, जिलाधिकारी ने फॉगिंग कार्यों में लापरवाही पर नाराजगी व्यक्त करते हुए नगर निगम के अधिकारी का स्पष्टीकरण तलब करने के निर्देश दिए।
जिलाधिकारी सोनिका ने निर्देश दिए हैं कि आईटीडीए में स्थापित किया गया कन्ट्रोलरूम, टोलफ्री नम्बर 18001802525, 24×7 कार्य करेगा।
टैस्ट, बैड, प्लेटलेटस, लैब, चिकित्सालय आदि की सभी शिकायतें दर्ज की जा सकती हैं।

मुख्य चिकित्साधिकारी को प्रतिदिन दो बार कन्ट्रोलरूम का निरीक्षण करने के निर्देश दिए।
फागिंग कार्यों को कन्ट्रोलरूम से संचालित करने के निर्देश भी डीएम ने दिए हैं।
लैब, चिकित्सालयों से सम्बन्धित शिकायते मिलने पर मजिस्ट्रेट मौके पर जाकर जांच करेंगे। कन्ट्रोल रूम में आयुष, यूसेक, नगर निगम, सीमएओ कार्यालय से स्टाफ तैनात रहेगा।
चिकित्सालयों में बैड आदि आवश्यक सुविधाओं की प्रतिदिन की जानकारी कन्ट्रोलरूम की दी जाएगी। डीएम ने जनपद में डेंगू की रोकथाम हेतु युद्धस्तर पर कार्यवाही करने के निर्देश दिए।

जिलाधिकारी सोनिका ने कहा कि कन्ट्रोलरूम के माध्यम से हॉस्पिटल, बैड टैस्टिंग, आदि की समस्याओं के निस्तारण के साथ ही कांउसिंलिग भी की जाएगी। मुख्य चिकित्साधिकारी को प्रतिदिन दो बार कन्ट्रोलरूम का निरीक्षण करने के निर्देश दिए। स्वास्थ्य विभाग की ओर से अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ सी.एस रावत को बनाया नोडल अधिकारी तथा नगर निगम की ओर से मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी नगर निगम डॉ अविनाश खन्ना को बनाया गया नोडल अधिकारी। अभियान चलाकर डेंगू के लार्वा को सामाप्त करने के दिए निर्देश। डेंगू से बचाव हेतु जनजागरूकता कार्यक्रम चलाने के निर्देश भी दिए गए हैं।
जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि जांच की ओवर रेटिंग, तथा बैड होने के उपरान्त भी भर्ती न करने वाले चिकित्सालयों पर होगी कार्यवाही। इसके लिए अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व को निर्देश दिए कि ऐसी शिकायतों पर मजिस्ट्रेट को सम्बन्धित चिकित्सालय एवं लैब में जांच हेतु भेजा जाए सत्यता पाये जाने पर निर्धारित प्राविधानों के अन्तर्गत होगी कार्यवाही।

जनपद में सचालित चिकित्सालयों की प्रतिदिन बैड की जानकारी कन्ट्रोलरूम को देने के निर्देश। इसके लिए मुख्य चिकित्साधिकारी को कार्यवाही के निर्देश दिए। उन्होंने निर्देश दिए कि कार्यों में लापरवाही क्षम्य नही होगी।
बैठक में अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व रामजीशरण शर्मा, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ संजय जैन, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ सी.एस रावत, डॉ दिनेश चौहान, मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी नगर निगम डॉ अविनाश खन्ना, जिला डेंगू मलेरिया अधिकारी डॉ सुभाष जोशी सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share