कुख्यात सुनील राठी
उत्तराखण्ड अपराध

पश्चिमी यूपी का कुख्यात सुनील राठी हरिद्वार से पौड़ी जेल शिफ्ट

कुख्यात सुनील

देहरादून।  कुख्यात सुनील राठी को सुरक्षा की दृष्टि से हरिद्वार जेल से पौड़ी जेल शिफ्ट कर दिया गया है। मंगलवार की शाम सुनील राठी की शिफ्टिंग पौड़ी के जिला कारागार खांड्यूसैंण में की गयी। राठी को शिफ्ट करने के बाद जेल की सुरक्षा व्यवस्था और भी कड़ी कर दी गयी है।

पश्चिमी यूपी के कुख्यात सुनील राठी बदमाश सुनील राठी ने हरिद्वार जेल में अपनी जान को खतरा बताते हुए यूपी की जेल में शिफ्ट करने का अनुरोध किया था लेकिन प्रशासन ने इस पर असमर्थता जता दी थी। कुख्यात सुनील राठी को गत वर्ष एक मुकदमे की पेशी के दौरान तिहाड़ जेल से हरिद्वार लाया गया था।

https://www.etvbharat.com/hindi/delhi/bharat/gangster-sunil-rathi-has-written-a-letter-demanding-not-to-shift-from-uttarakhand-to-jail-for-other-states/na20230609154326559559518

तिहाड़ जेल में हुए हमले के बाद कुख्यात अपराधियों के लिए हाई सिक्योरिटी जेल की आवश्यकता महसूस की गई।

हालांकि उत्तराखंड में भी कोई हाई सिक्योरिटी जेल नहीं है लेकिन कुख्यात सुनील राठी की सुरक्षा व्यवस्था काफी कड़ी रखी गई थी उसके बावजूद कुख्यात राठी को हरिद्वार की जेल सुरक्षित नहीं लग रही थी गैंगस्टर संजीवा की हत्या के बाद तो सुनील राठी की भी नींद उड़ी हुई थी।

कुख्यात सुनील राठी किया यूपी की जेल में शिफ्ट किए जाने का अनुरोध;-

जिसके बाद उसने खुद को यूपी की जेल में शिफ्ट किए जाने का अनुरोध किया था लेकिन प्रशासन ने इस पर असमर्थता जता दी थी उसका। सुशील राठी पर उत्तर प्रदेश पंजाब और उत्तराखंड में कई मामले दर्ज है।

https://www.youtube.com/watch?v=tSswuKB_FlI

सुनील राठी की मांग को देखते हुए प्रदेश सरकार ने दिल्ली और उत्तर प्रदेश पुलिस को पत्र भेजकर अनुरोध किया था कि सुनील राठी को तिहाड़ जेल या उत्तर प्रदेश की किसी जेल में शिफ्ट किया।

सुनील राठी को जेल में शिफ्ट करने में उत्तराखंड पुलिस पूरा सहयोग करेगी लेकिन दोनों ही राज्यों से निराशा मिली।

https://www.youtube.com/watch?v=-kU3dpNpUE4

प्रदेश सरकार के इस पत्र के जवाब में दिल्ली पुलिस का जवाब आया कि सुनील राठी पर दिल्ली में कोई भी मामला नहीं है जिसकी वजह से उसे तिहाड़ जेल में नहीं रखा जा सकता उसका वही उत्तर प्रदेश में भी विभिन्न कारणों का हवाला देते हुए सुनील राठी को उत्तर प्रदेश की जेल में रखने में असमर्थता जता दी उसका जिस पर हरिद्वार जेल प्रशासन ने शासन को सूचित किया कि सुनील राठी को हरिद्वार जेल में रखना सुरक्षित नहीं है।

शासन को जब यह जानकारी मिली तो इस पर गंभीरता से विचार करते हुए अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने जेल महानिरीक्षक विमला गुंज्याल को सुनील राठी को शिफ्ट करने के निर्देश दिए उसका जिसके बाद बाद कुख्यात को पौड़ी से जिला कारागार खांड्यूसैंण में शिफ्ट कर दिया गया।

विदित हो कि कुख्यात गैंगस्टर सुनील राठी के नाम से व्हाट्सएप कॉल पर गुरुकुल विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष रविकांत मलिक और उसके भाई अमरकांत मलिक 50 हजार की रंगदारी मांगने का मामला दर्ज किया गया था। रंगदारी नहीं देने पर रोशनाबाद स्थित उनके जमीन पर कब्जा करने की धमकी भी दी गई थी।

आरोप यह भी था कि राठी के 5 गुुर्गो ने उस जमीन पर बने मकान में तोड़फोड़ कर सामान भी चोरी कर लिया था और हत्या की धमकी दी थी। कुख्यात सुनील राठी को तिहाड़ जेल से अक्टूबर 2022 में रोशनाबाद जेल में शिफ्ट किया गया था। पूर्व के कारनामों से परेशान जेल अधिकारी फरवरी में इस रंगदारी के मामले को लेकर और भी परेशान हो गए थे।

जमीनों पर कब्जा करने की धमकी में नीरज मलिक निवासी नवोदय नगर रोशनाबाद और प्रदीप राठी निवासी टिकरी बागपत, विपिन राठी, रोहताश राठी निवासी टिकरी बागपत ने अमरकांत मलिक को जमीन को लेकर लगातार हत्या करने की धमकी दी थी।

फरवरी माह में राठी के नाम से फोन पर धमकी दी है। जिसके बाद सिडकुल पुलिस ने जेल में बंद सुनील राठी, नीरज मलिक, प्रदीप राठी, रोहताश राठी, विपिन राठी और सुशील गुर्जर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया था।

रविकांत मलिक के मुताबिक 3 फरवरी को उसके भाई अमरकांत मालिक के पास व्हाट्सएप पर कॉल आई थी। जिसमें कहा गया था कि मैं सुनील राठी बोल रहा हूं जेल आओ अगर तुम्हें 50 तुम्हें प्लॉट चाहिए तो 50 लाख दे दो।

जेल में बंद रहने के दौरान राठी ने बंदी रक्षक की भी पिटाई की थी। राठी पर हत्याओं से लेकर रंगदारी के तमाम मामले दर्ज है। हरिद्वार में जेल में बंद राठी के आने के बाद से जेल प्रशासन के सामने कई चुनौतियां थी।

राठी द्वारा एक कैदी के साथ मारपीट ने जेल में सुशील की दबंगई का एहसास अधिकारियों को करा दिया था। उसके बाद 50 लाख की रंगदारी मांगने का मामला आया।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share