उत्तराखण्ड

दस लाख की प्रतिबंधित कांजल-काठ की लकड़ी के साथ दो तस्कर धरे

कांजल-काठ की लकड़ीी के  308 नग बरामद, वन विभाग के सुपुर्द किये

उत्तरकाशी। जनपद के डुंडा शहर में पुलिस ने दस लाख की प्रतिबंधित कांजल-काठ की लकड़ी पकड़ी है। पुलिस टीम ने कांजल- काठ की लकड़ी के 308 नग बरामद किये हैं। पुलिस ने दो तस्करों को गिरफ्तार किया है जबकि लकड़ी के नग वन विभाग को सौंप दिये हैं।

आगामी त्यौहारी सीजन को देखते हुए एसपी उत्तरकाशी अर्पण यदुवंशी  के सख्त निर्देशों के चलते कोतवाली और थाना प्रभारियों ने जबरदस्त चेकिंग अभियान चलाया हुआ है। आज सुबह सात बजे के समय चौकी प्रभारी डुण्डा तस्लीम आरिफ के नेतृत्व में डुण्डा पुलिस बैरियर रेगुलर चैकिंग की जा रही थी।

चेकिंग के दौरान एक इनोवा कार को रोककर चैक किया गया तो वाहन से 308 नग प्रतिबंधित कांजल-काठ की लकड़ी बरामद की गयी। कार में 02 व्यक्ति साजिद (38) पुत्र रासु राव निवासी खाताखेड़ी थाना मंडी जनपद सहारनपुर उत्तर प्रदेश और      पृथ्वी रावल (50) पुत्र कोयलू रावल निवासी अचल कनाली जिला हुमला नेपाल, हाल निवास नाला पटरी घण्टाघर के पास सहारनपुर उप्र सवार थे, जो कि प्रतिबंधित लकड़ी की तस्करी कर रहे थे।

पूछताछ में इन दोनों ने बताया कि वह इसे कामर गांव के उपर जंगलों से काटकर लाये थे, जिसे वह बेचने के लिए सहारनपुर ले जा रहे थे। एसपी उत्तरकाशी यदुवंशी ने बताया कि कांजल की लकड़ी उच्च हिमालय के आरक्षित वन क्षेत्र में पाई जाती है। कांजल औषधीय दृष्टिकोण से सर्वोत्तम मानी जाती है। यह एक प्रतिबंधित वन सम्पदा है। इसकी तस्करी कर लोग उच्च कीमतों में बेचते हैं।

साथ ही उनके द्वारा बताया गया कि आपराधिक प्रवृत्ति, प्रतिबंधित वन सम्पदा एवं नशीले पदार्थों की तस्करी करने वालों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जायेगा। त्यौहारी सीजन एवं भीड-भाड़ के माहौल को देखते हुये अतिरिक्त पुलिस बल को चैकिंग के लिए लगाया गया है, जो कि की दिन एवं रात्रि में लगातार गश्त एवं चैकिग करेंगे।

पुलिस टीम-

1-     उ0नि0 तस्लीफ आरिफ-चौकी प्रभारी डुण्डा

2-     हे0कानि0 गजपाल

3-     कानि0 राकेश सिंह

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share