उत्तराखण्ड

पश्चिम अफ्रीका की पहली महिला वनपाल डॉक्टर जूलियट पहुंची उत्तराखंड

रेशम उत्पादों की खरीदारी करने पहुंची यूएनएफएफ की ज्यूलियट बाओ

देहरादून। संयुक्त राष्ट्र की प्रतिनिधि एवं निदेशक सैक्ट्रीएट यूनाईटेड नेशन फोरम ऑन फारेस्ट (यूएनएफएफ) डाक्टर ज्यूलियट बाओ एवं अन्य प्रतिनिधि द्वारा अपने दो दिवसीय उत्तराखंड के भ्रमण पर  राजधानी देहरादून स्थित को-आपरेटिव रेशम फेडरेशन के सिल्क पार्क  भवन में अधिकारियों/कर्मचारियों के साथ आज फेडरेशन द्वारा विभिन्न कार्यों एवं उत्पादों की जानकारी ली गई। इस दौरान रेशम फेडरेशन द्वारा की जा रही गतिविधियों के संबंध में अधिकारियों से चर्चा की।

डॉ. बियाओ ने फेडरेशन द्वारा जनजाति एवं अन्य दुर्बल वर्ग के लोगों के लिये संचालित योजनाओं की प्रशंसा की गई एवं सिल्क पार्क में बुनाई कार्यशाला में तैयार किये जा रहे उत्पादों का निरीक्षण किया गया। डाक्टर ज्यूलियट बाओ के पास औद्योनिक, कृषि एवं वन के क्षेत्र में प्रचुर अनुभव है।

उनके द्वारा 32 से अधिक वर्षों तक अफ्रिका, लैटिन अमेरिका आदि में जटिल प्रबंधन कार्य किये गए जिनमें पर्यावरण, लैगिंक समानता के क्षेत्र में उनके द्वारा कार्य किया गया उन्हें पश्चिम अफ्रीका में पहली महिला वनपाल होने का गौरव भी प्राप्त है। डॉ. बियाओ ने संरक्षित क्षेत्रों के सहभागी प्रबंधन सहित अभूतपूर्व पहल की शुरुआत की है।

भ्रमण के उपरान्त डा. बाओ ने दून सिल्क के रिटेल स्टोर से विविध प्रकार से देहरादून में निर्मित रेशम के वस्त्रों का क्रय भी किया उनके द्वारा देहरादून में  निर्मित रेशम के वस्त्र की गुणवत्ता की प्रशंसा की गई।

इस अवसर में, प्रबंध निदेशक आनंद  शुक्ल प्रदीप कुमार, प्रबंधक   मातबर कण्डारी, टैक्स इंजी  अकिंत खाती,  अनिल डोभाल,  दर्षन सिंह,  नेहा खाती सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Share