उत्तराखण्ड

मेडिकल कॉलेज बन रहा हाईटेक, एम्स और दून जाने की नहीं होगी जरूरत: डॉ. धन सिंह 

बच्चों के इलाज के लिए 42 बेड के पीकू वार्ड की दी स्वास्थ्य मंत्री ने सौगात

तीन करोड़ 55 लाख की लागत से तैयार किया गया पीकू वार्ड

गढ़वाल क्षेत्र के नवजात से लेकर 18 वर्ष के बच्चों को मिलेगा पीकू वार्ड का लाभ

1 करोड़ 60 लाख की लागत के विभिन्न विकास कार्यों का भी किया शिलान्यास

श्रीनगर। चिकित्सा शिक्षा एवं चिकित्सा स्वास्थ्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने नववर्ष के प्रथम माह में गढ़वाल क्षेत्र के लिए तीन करोड़ 55 लाख की लागत से तैयार पीकू वार्ड की सौगात देकर मेडिकल कॉलेज के नाम पर एक और चिकित्सा सेवा की शुरुआत की है।

स्वास्थ्य मंत्री ने बेस चिकित्सालय में पीकू वार्ड (बाल सघन चिकित्सा इकाई) का लोकापर्ण किया। इस पीकू वार्ड के बनने से गढ़वाल क्षेत्र के 1 माह से लेकर 18 साल के गंभीर रूप से बीमार बच्चों को बेहतर चिकित्सा सुविधा मिलेगी। जबकि 1 करोड़ 60 लाख सात हजार की लगात से मेडिकल कॉलेज व बेस चिकित्सालय में भवनों, हॉस्टलों के रंगरंगोन, ओपन जिम खोलने, सुरक्षा दीवार, रास्तों की मरम्मत कार्यो का शिलान्यास किया।

बेस चिकित्सालय में पांच करोड़ से अधिक कार्यों का लोकार्पण 

बेस चिकित्सालय में पांच करोड़ से अधिक लागत के कार्यों का लोकार्पण एवं शिलान्यास के अवसर पर प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा एवं चिकित्सा स्वास्थ्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने कहा कि पीडियाट्रिक इन्सेंटिव केयर यूनिट (पीकू) बनने से बेस चिकित्सालय में बच्चों को बेहतर उपचार मिलेगा। गंभीर रूप से बीमार बच्चों के लिए पीकू वार्ड में चार आईसीयू बेड की व्यवस्था की गई है। जबकि आठ बेड हाई डिपेंडेंसी यूनिट (एचडीयू) तथा 30 बेड ऑक्सीजन युक्त रहेगे। यहां अब किसी भी बच्चे के बीमार होने पर उन्हें पीकू वार्ड में भर्ती कर उपचार दिया जा सकता है।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि मेडिकल कॉलेज को हाईटेक बनाया जा रहा है, इससे यहां के लोगों को अब एम्स या दून जाने की जरूरत नहीं होगी। इसके साथ ही मेडिकल कॉलेज के मुख्य भवनों एवं हॉस्टलों में रंगरंगोन से लेकर छात्र-छात्राओं के लिए ओपन जिम खोला जा रहा है।

कहा कि बेस अस्पताल की जल्द नयी बिल्डिंग बनाई जायेगी। होमगार्ड प्रशिक्षण केंन्द्र का मैदान बनाया, दो हजार वाहनों की पार्किग बनाने का कार्य किया जा रहा है। इसके साथ ही श्रीनगर में शानदार हेलीपेड बनाया जा रहा है। जिसमें सेना के पांच हेलीकाप्टर भी उतर सकते है। गहड़ गांव में जल्द नर्सिंग कॉलेज बनाने का कार्य शुरु होगा। 1 हजार लाइट पूरे नगर निगम को जगमग करने के लिए लाई जा रही है।

श्रीनगर में 11 सौ करोड़ की लागत मैरिन ड्राइव बनेगी 

श्रीनगर में मैरिन ड्राइव बनेगी, जिसकी 11 सौ करोड की लागत होगी। इसके साथ ही 210 करोड़ से सीवर लाइन बनेगी, धारी देवी में सौन्दर्यीकरण, स्नान घाट, सड़क बनाने का कार्य किया जायेगा। नगर निगम के लिए 68 कार्य स्वीकृत कराये है, जिनका शिलान्यास जल्द किया जायेगा। 35 करोड की लागत से नगर निगम का कार्यालय और पार्किंग बनेगी।

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने कहा कि 26 जनवरी तक खिर्सू ब्लाक को टीबी मुक्त किया जाएगा। इसके साथ ही दो माह के भीतर प्रदेश में पांच हजार गांव टीबी मुक्त होगे, जिसकी लॉचिंग देश के प्रधानमंत्री एवं प्रदेश के मुख्यमंत्री के जरिए करायी जायेगी। इसके साथ ही उन्होंने 22 जनवरी को राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के दिन हर मंदिर में पूजा-अर्चना व भजन कीर्तन करने का आह्वान किया।

इस मौके पर मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सीएमएस रावत ने मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य दिलाने के लिए अब तक मेडिकल कॉलेज के हिस्सा बने स्वास्थ्य संसाधनों के संदर्भ में जाकारी देते हुए कहा कि प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री जी के प्रयासों से आज स्वास्थ्य सुविधाओं, फैकल्टी नियुक्ति, कर्मचारियों के हित में ऐतिहासिक कार्य सतत जारी है। इसके लिए उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं स्वास्थ्य मंत्री का आभार प्रकट किया।

इस मौके पर चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अजेय विक्रम सिंह ने कार्यक्रम में पहुंचे सभी लोगों का धन्यवाद ज्ञापित किया। पीकू वार्ड का निर्माण कर रही हिंदुस्तान कन्स्ट्रक्शन लिमि के शिवम द्विवेदी ने बताया कि पीकू वार्ड में सभी सुविधाएं गुणवत्तापरक लगायी गई है। इस मौके पर पीडिया विभाग के एचओडी डॉ. अशोक कुमार शर्मा, डॉ. तृप्ति श्रीवास्तव ने पीकू वार्ड के संदर्भ में जानकारी दी। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ फार्मेस्ट अनिल उनियाल द्वारा किया गया।

पीकू वार्ड रहेगा अत्याधुनिक उपकरणों से लैस

मेडिकल कॉलेज के बेस चिकित्सालय में पीकू वार्ड बनने से यहां पीकू में सक्शन उपकरण, रक्त गैस विश्लेषक (एबीजी), ओवरहेड वार्मर, फोटो थेरेपी मशीन, मल्टी पैरा कार्डिएक मॉनिटर, वेंटिलेटर, ओवरहेड बेड, डिफिब्रिलेटर्स, सिरिंज पंप, रिवाल्विंग स्टूल, बेड साइड लॉकर, पीकू बिस्तर, ऑक्सीजन कन्संट्रेटर एवं सिलिंडर जैसे उपकरण व संसाधन के साथ ही वार्ड में सभी बेड ऑक्सीजन युक्त रहेगे। अत्याधुनिक चिकित्सकीय उपकरणों से लैस पीकू वार्ड बनाया जाना एक स्वास्थ्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत की अच्छी पहल है।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share